viralkhabri.com
Ananya Singh:UPSC की परीक्षा औप बन गई IAS, बताया टॉपर बनने का सीक्रेट जिन्होने महज 22 साल की उम्र में पहले ही प्रयास में पास की UPSC की परीक्षा
 
ips

 Viral Khbri, IAS Success Story in Hindi: UPSC (UPSC) संघ लोक सेवा आयोग परीक्षा को सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक माना जाता है। इस परीक्षा को पास करने वालों की गिनती देश के शीर्ष अधिकारियों में होती है. आज हम आपके लिए लाए हैं अनन्या सिंह की कहानी जो 22 साल की उम्र में आईएएस बन गईं।

इतनी कम उम्र में उन्होंने IAS परीक्षा की तैयारी कैसे की? उन्होंने कौन से तरीके अपनाए और उन्होंने कैसे तैयारी की? ये सारी बातें आपसे साझा करेंगे। अनन्या ने युवाओं को कुछ टिप्स भी दिए हैं जिससे वे आसानी से परीक्षा की तैयारी और पास कर सकें, तो आइए जानते हैं कि अनन्या 22 साल की उम्र में IAS कैसे बनी।

govt vacancy

     SDM Success Story: इस शहर की पहली महिला SDM अपूर्वा यादव हिंदी मीडियम से की पढ़ाई, अमेरिका में नौकरी, ऐसे बनी SDM

कौन हैं अनन्या सिंह?
प्रयागराज के सेंट मैरी कॉन्वेंट स्कूल से अपनी प्राथमिक शिक्षा ग्रहण करने वाली अनन्या सिंह ने पढ़ाई में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। अनन्या ने 10वीं में 96 फीसदी और 12वीं में 98.25 फीसदी अंक हासिल किए हैं. वह दोनों परीक्षाओं में सीआईएससीई बोर्ड से जिला टॉपर थी। 12वीं पूरी करने के बाद अनन्या ने दिल्ली के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स में दाखिला लिया और अर्थशास्त्र में ऑनर्स के साथ स्नातक की पढ़ाई पूरी की।
अनन्या का बचपन से सपना था कि वह आईएएस अफसर बनकर देश की सेवा करेंगी। उन्होंने स्नातक के अपने अंतिम वर्ष में सिविल परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी और केवल 1 वर्ष के प्रयास में परीक्षा पास कर ली।

यूपीएससी परीक्षा की तैयारी के बारे में अनन्या ने कहा कि शुरुआत में वह रोजाना 7 से 8 घंटे पढ़ाई करती थीं, लेकिन देश मजबूत होने के बाद उन्होंने पढ़ाई का समय घटाकर रोजाना 6 घंटे कर दिया। वह अपना टाइम टेबल मैनेज करते हुए रोजाना 6 घंटे की पढ़ाई पूरी करती थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अनन्या सिंह ने यूपीएससी परीक्षा की तैयारी के लिए टाइम टेबल बनाया था. इसी बात को ध्यान में रखते हुए वह हमेशा पढ़ाई करती थी। अनन्या ने कहा कि प्री और मेंस परीक्षा के दौरान कड़ी मेहनत करना बहुत जरूरी है।


अनन्या ने कहा कि उन्होंने यूपीएससी परीक्षा की तैयारी के लिए सबसे पहले किताबों की लिस्ट तैयार की। पाठ्यक्रम के अनुसार पुस्तकें प्रस्तुत की जाती हैं। फिर हैंड नोट्स बनाएं।

अनन्या कहती हैं कि नोट्स बनाने के फायदे हैं। उत्तर पहले नोट्स लिखकर याद किए जाते हैं। दूसरा, यह एक छोटी स्क्रिप्ट है, जो रिवीजन को बहुत आसान बनाती है।