cricket sports

हिंदी न्यूज़ – क्या सच में श्रीलंकाई कप्तान दिनेश चांदीमल ने की बॉल टेम्परिंग?


अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में तीन महीने के अंदर ही एक बार फिर बॉल टेम्परिंग का मामला सामने आया है. इस बार श्रीलंकाई कप्तान दिनेश चांदीमल पर टेम्परिंग का आरोप लगा है. हालांकि उन्होंने इन आरोपों से साफ इंकार किया है लेकिन सोशल मीडिया पर उनका बॉल से छेड़खानी करते हुए वीडियो वायरल हो गया. जिसेक बाद इस वीडियो को सोशल मीडिया से हटा लिया गया. वीडियो में चांदीमल अपनी जेब में रखे मिंट का इस्तेमाल कर बॉल टेम्परिंग करते नज़र आ रहे हैं. श्रीलंका और वेस्टइंडीज़ के बीच दूसरे टेस्ट के तीसरे दिन ये वाक्या हुआ.

इससे पहले मार्च में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी कैमरून बेनक्रॉफ्ट ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट के दौरान बॉल टेम्परिंग की थी. बाद में कप्तान स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर ने भी टेम्परिंग की साज़िश रचने की बात कबूली. ताज़ा मामले में चांदीमल का बॉल से छेड़छाड़ करते हुए एक वीडियो सामने आया है.

वेस्टइंडीज़ के खिलाफ दूसरे टेस्ट में श्रीलंका को विकटों की दरकार थी. तभी अंपायर अलीम डार, इयान गुल्ड और टीवी अंपायर रिचर्ड कैटलबोरो ने चांदीमल के बॉस को चमकाने के तरीके पर आशंका जताई. ब्रॉडकास्टर्स से इसका फुटेज मांगा गया ताकि मामले की तह तक जाया जा सके. अंपायारों ने अगले दिन सुबह फुटेज देखे. इसमें देखा गया कि श्रीलंकाई कप्तान ने अपनी बाईं जेब से मिंट निकाला, उसे मुंह में रखा और बाद में मुंह से उसे बॉल पर लगा दिया. फिर बॉल श्रीलंकाई गेंदबाज़ लहीरू कुमारा को दे दी.

आईसीसी कोड ऑफ कंडक्ट का उल्लंघनफुटेज देखने के बाद अंपायरों ने कहा कि चंदीमल ने बॉल की स्थिति बदलने के लिए ऐसा किया. उन पर आईसीसी कोड ऑफ कंडक्ट के उल्लंघन का आरोप लगाया गया. ये सब तब हुआ, जब टीम को मैदान पर उतरने में महज़ 10 मिनट बाकी थे. अंपायर अलीम डार और इयान गुल्ड ने बॉल बदल दी और वेस्टइंडीज़ को पांच पेनल्टी रन दे दिए. इससे नाराज़ श्रीलंकाई खिलाड़ियों ने मैदान पर उतरने से इंकार कर दिया. वे मैच रेफरी जवागल श्रीनाथ से बात करते रहे. टीम मैनेजमेंट ने कोलंबो में श्रीलंकाई क्रिकेट बोर्ड से भी फोन पर भी बात की. दो घंटे बाद सभी खिलाड़ी मैदान पर आ गए.

चांदीमल पर भी लग सकता है बैन
रेफरी जवागल श्रीनाथ को चांदीमल के मामले में सुनवाई करनी है. अगर वो दोषी पाए जाते हैं तो उन्हें शनिवार यानि 23 जून से बारबाडोस में होने जाने वाले तीसरे और आखिरी टेस्ट से सस्पेंड किया जा सकता है. 50 से 100 फीसदी मैच फीस की पैनल्टी भी लग सकती है. आईसीसी क्रिकेट कमेटी ने सिफारिश की थी कि अगर कोई खिलाड़ी बॉल टेम्परिंग का दोषी पाया जाता है तो उस पर एक या दो टेस्ट का नहीं, बल्कि चार टेस्ट से लेकर 8 वनडे इंटरनेशनल का बैन होना चाहिए.

ये भी पढ़ें:

गेंद से छेड़छाड़ करने वालों को ICC देगी ये सख्त सज़ा!

अंपायरों ने बदली गेंद तो श्रीलंकाई टीम ने किया मैदान पर उतरने से इंकार





Source link