Featured Social

अब गुमशुदा पर रहेगी नजर, बालगृहों के 30,835 बच्‍चों का आधार कार्ड ‘ट्रैक चाइल्‍ड पोर्टल’ से हुआ लिंक | Aadhaar cards of over 30,000 children under institutional care linked with Track Child Portal

https://hindi.oneindia.com/img/2018/08/aadhaar1-1518837724-1533991820.jpg


नई दिल्‍ली। बाल गृहों से लापता हुए बच्‍चों की रिपोर्ट और उससे संबंधी जानकारियां हासिल करने के लिए एक कारगर कदम उठाया गया है। बाल आश्रय गृहों में रह रहे 30,000 से ज्‍यादा बच्‍चों के आधार कार्डों को ट्रैक चाइल्‍ड पोर्टल से जोड़ा गया है। आपको बता दें कि ट्रैक चाइल्‍ड पोर्टल उन सभी बच्‍चों के केंद्रीय डेटा बेस के तौर पर काम करता है जो देश के विभिन्‍न हिस्‍सों से लापता हो जाते हैं। एक अधिकारी ने बताया कि यह पोर्टल गुमशुदा बच्चों की तलाश में सहायता के लिए एक प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराने का कार्य करता है। इसक‍े अलावा बाल गृहों, पुलिस विभागों और राज्य सरकारों के बीच समन्वय में सहायता करता है।

अब गुमशुदा पर रहेगी नजर, बालगृहों के 30,835 बच्‍चों का आधार कार्ड ट्रैक चाइल्‍ड पोर्टल से हुआ लिंक

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के एक अधिकारी ने न्‍यूज एजेंसी पीटीआई को बताया कि बाल गृहों में रह रहे बच्चों की संख्या की जानकारी के लिए सरकार बाल गृहों में बच्चों के आधार कार्ड को इस पोर्टल से लिंक कर रही है और अब तक 30835 बच्चों की आधार संख्या को लिंक किया जा चुका है। देश भर में 9000 से ज्यादा बाल देखभाल गृहों में कुल 261566 बच्चे रह रहे हैं। इनके आधार कार्डों को ट्रैक चाइल्ड से लिंक करने का मकसद गुमशुदा बच्चों को ढूंढ़ने में सहायता करना तो है ही, साथ ही इससे यह भी पता चल सकेगा कि यदि उस लापता बच्चे को कहीं भर्ती करने की कोशिश की जाती है तो उसकी जानकारी इससे मिल पाएगी।

अधिकारी ने बताया, ‘मंत्रालय ने इससे संबंधित सभी हितधारकों से सभी बाल गृहों में बच्चों का आधार पंजीकरण सुनिश्चित करने के लिए कहा है। राज्य सरकारों द्वारा आवश्यक कदम उठाए गए हैं। ट्रैक चाइल्ड पोर्टल पर बच्चे का आधार विवरण डालने का प्रावधान तो पहले ही कर दिया गया था। गौरतलब है कि पिछले कुछ समय में देश के कई हिस्सों में बाल गृहों से बच्चों के गुम होने की खबर आयी है। इसे देखते हुये इन प्रयासों को तेज कर दिया गया है।

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें – निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!



Source link