दुनिया का एकमात्र भोजपुरी चर्च, जहां प्रेयर इंग्लिश में नहीं भोजपुरी में होती है

दुआ अगर दिल से की जाए तो भक्त और भगवान के बीच भाषा कोई मायने नहीं रखती। इसी बात को सिद्ध करता है पिंडरा गाँव का भोजपुरी चर्च जहां ईसा मसीह की प्रेयर भोजपुरी भाषा में की जाती है। आमतौर पर सभी चर्च एक जैसे ही होते हैं लेकिन एक चर्च ऐसा है जो दुनिया में सबसे अलग और अनोखा है। जी हाँ, हम बात कर रहे हैं भोजपुरी चर्च की। अमूमन चर्च में होने वाली प्रेयर अंग्रेजी में ही होती है लेकिन लेकिन ये दुनिया का एकमात्र ऐसा चर्च है जहां होने वाली प्रेयर भोजपुरी भाषा में होती है। ये चर्च पिंडरा गाँव में हैं। जहां ईसा मसीह के लिए भोजपुरी में प्रेयर होती है। इतना ही नहीं यहां बाइबिल का भी भोजपुरी में अनुवाद कर पढ़ा जाता है। यहाँ आने वाले लोग प्रभु ईसा मसीह के बताए गए वचनों को भोजपुरी में ही सुनते हैं। ईसा मसीह को समर्पित भजन को कैरल कहते हैं जो अक्सर अंग्रेजी में ही देखने और सुनने को मिलता है, लेकिन इस भोजपुरी चर्च की खासियत है कि यहां प्रभु का कैरल भोजपुरी में ही होता है। वाराणसी के छावनी क्षेत्र में चर्च की स्थापना सन् 1879 में रेव्हटन एलवर्ट ने की थी। स्थापना के बाद से ही प्रार्थना और अन्य आयोजन भोजपुरी भाषा में ही किए जा रहे हैं। भोजपुरी चर्च को बनाने के पीछे मकसद बस यही है कि ग्रामीण क्षेत्रों में जहां लोग हिंदी के अलावा सिर्फ भोजपुरी समझते हैं, उनको भोजपुरी के माध्यम से कैरल समझाया जा सके। लोगों को भी अच्छा लगता है कि उनकी क्षेत्रीय भाषा में प्रभु उनको सुनने को मिलते हैं। दुनिया का एकमात्र भोजपुरी चर्च बनारस मुख्यालय से तीस किलोमीटर की दूरी पर पिंडरा तहसील से पांच सौ मीटर की दूरी पर है। हर रविवार ,ईस्टर और क्रिसमस में यहां विशेष आयोजन होते हैं खासकर क्रिसमस में। इस चर्च के माध्यम से ये बात बड़ी आसानी से समझी जा सकता है कि स्थानीय भाषा बड़े से बड़े सन्देश और उपदेश को ना सिर्फ आसान बनाती है बल्कि अपनेपन का एहसास भी कराती है।


दुनिया का एकमात्र भोजपुरी चर्च, जहां प्रेयर इंग्लिश में नहीं भोजपुरी में होती है

दुआ अगर दिल से की जाए तो भक्त और भगवान के बीच भाषा कोई मायने नहीं रखती। इसी बात को सिद्ध करता है पिंडरा गाँव का भोजपुरी चर्च जहां ईसा मसीह की प्रेयर भोजपुरी भाषा में की जाती है। आमतौर पर सभी चर्च एक जैसे ही होते हैं लेकिन एक चर्च ऐसा है जो दुनिया में सबसे अलग और अनोखा है। जी हाँ, हम बात कर रहे हैं  भोजपुरी चर्च की। अमूमन चर्च में होने वाली प्रेयर अंग्रेजी में ही होती है लेकिन लेकिन ये दुनिया का एकमात्र ऐसा चर्च है जहां होने वाली प्रेयर भोजपुरी भाषा में होती है। ये चर्च पिंडरा गाँव में हैं। जहां ईसा मसीह के लिए भोजपुरी में  प्रेयर होती है।  इतना ही नहीं यहां बाइबिल का भी भोजपुरी में अनुवाद कर पढ़ा जाता है। यहाँ आने वाले लोग प्रभु ईसा मसीह के बताए गए वचनों को भोजपुरी में ही सुनते हैं। ईसा मसीह को समर्पित भजन को कैरल कहते हैं जो अक्सर अंग्रेजी में ही देखने और सुनने को मिलता है, लेकिन इस भोजपुरी चर्च की खासियत है कि यहां प्रभु का कैरल भोजपुरी में ही होता है। वाराणसी के छावनी क्षेत्र में  चर्च की स्थापना सन् 1879 में रेव्हटन एलवर्ट ने की थी। स्थापना के बाद से ही प्रार्थना और अन्य आयोजन भोजपुरी भाषा में ही किए जा रहे हैं। भोजपुरी चर्च को बनाने के पीछे मकसद बस यही है कि ग्रामीण क्षेत्रों में जहां लोग हिंदी के अलावा सिर्फ भोजपुरी समझते हैं, उनको भोजपुरी के माध्यम से कैरल समझाया जा सके। 

लोगों को भी अच्छा लगता है कि उनकी क्षेत्रीय भाषा में प्रभु उनको सुनने को मिलते हैं। दुनिया का एकमात्र भोजपुरी चर्च बनारस मुख्यालय से तीस किलोमीटर की दूरी पर पिंडरा तहसील से पांच सौ मीटर की दूरी पर है।  

हर रविवार ,ईस्टर और क्रिसमस में यहां विशेष आयोजन होते हैं खासकर क्रिसमस में। इस चर्च के माध्यम से ये बात बड़ी आसानी से समझी जा सकता है कि  स्थानीय भाषा बड़े से बड़े सन्देश और उपदेश को ना सिर्फ आसान बनाती है बल्कि अपनेपन  का एहसास भी कराती है।

What's Your Reaction?

हे भगवान हे भगवान
0
हे भगवान
विजेता विजेता
0
विजेता
लवली लवली
0
लवली
लोल ! लोल !
0
लोल !
दुखी दुखी
0
दुखी
बकवास बकवास
0
बकवास
डरावना डरावना
0
डरावना
गुस्सैल गुस्सैल
0
गुस्सैल
मूर्ख मूर्ख
0
मूर्ख

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

दुनिया का एकमात्र भोजपुरी चर्च, जहां प्रेयर इंग्लिश में नहीं भोजपुरी में होती है

log in

Become a part of our community!

Don't have an account?
sign up

reset password

Back to
log in

sign up

Join BoomBox Community

Back to
log in
Choose A Format
पर्सनालिटी क़ुइज़
ट्रिविया क़ुइज़
पोल
स्टोरी
लिस्ट
विडियो
ऑडियो
इमेज